Translate

बुधवार, 15 सितंबर 2010

divangi

लडकी के चक्कर में पड़कर,
अपने ही दोस्तों से लड़कर ,
एम्.ए.तक पढ़कर ,
किया अपने को बर्बाद ,
                     यारो चले थे घर से लड़कर ,
                     आये कंडक्टर से लड़कर ,
                     किसी अंधे से भिड़कर ,
                     अंधे की उपाधि लेकर ,
                     आये थे कालेज ,
आते ही कालेज बन गये शेर ,
शरीफ लडके लडकियों को सताना या ,
इससे भी बढ़कर हरकत करना ही था जीवन लक्ष्य ,
किसी लडकी को लेकर एक दिन हुआ हंगामा भारी ,
कोई चाकू कोई छुरी तो कोई ले आया बारी,
एक ने दूसरे को चाकू छुरी मारी ,
हुए हाल बेहाल ,
                                              यारो खून से वस्त्र हुए सारे लाल ,
                                                                                 
                                              लडकियाँ खड़ी मुस्करा रही थी ,
                                              अक्ल के दुश्मनों  को ,
                                              तब भी शर्म नहीं आ रही थी ;;;;;;
 
एक टिप्पणी भेजें