Translate

गुरुवार, 30 सितंबर 2010

mamta ki bheekh

बिल्ली का बच्चा बैठा छत पर ,म्याऊँ म्याऊँ  करता ,
देख-देख इन्सान को वह ,अपनी भूख को प्रकट करता ,
कोई न सुनता उसकी, सब अपनी-अपनी कहते ,
आखिर चोरो तरफ देख,बच्चा जोर-जोर से चिल्लाने लगा ,
वह रो-रो कर ,अपनी माँ को आवाज  लगा ,
लेकिन कुमाता का, कहीं पता नहीं था ,
वह रोया चिल्लाया लेकिन ,उसके पास कोई नहीं आया ,
बच्चा निःसहाय होकर गिर पड़ा ,बच्चे को पड़ा देख ,
एक के बाद एक असमाजिक तत्व आने लगे ,
बच्चे को घायल कर तडफाने लगे ;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;----
                                      आजाद सिंह पंवार 
                             





                                      
एक टिप्पणी भेजें