Translate

मंगलवार, 30 नवंबर 2010

श्रेष्ठ छात्रो के जीवन में ,आती अनेक बाधाए ,
उनको पार करने में, आती अनेक आपदाए,
अरे आपदाओं से पिंड छुड़ाया ,तो आई अनेक धनिकाए ,
ये धनिकाए करती ,श्रेष्ठ चरित्र को बर्बाद ,
जो फंस जाए इनके चंगुल में ,हो नहीं सकता आबाद................
शीर्षक सुझाये ?
एक टिप्पणी भेजें