Translate

शुक्रवार, 29 अक्तूबर 2010

????????????????????///

बच्चो खेलो कूदो खूब हंसो ,
कभी बुरी संगति में न फंसो ,
यदि कोई कोशिश करे फ़साने की ,
आप कोशिश करो निकल आने की ,
यदि इससे भी न कम चले ,
फिर आप न बने भले ,
करे अत्याचारी का ऐसा पर्दाफाश,
पता लग जाए आस पास,
ऐसा संगठन करो तैयार ,
जो अत्याचारी को पिलाए मार ,
मिल सब करो देश का उद्धार ,
यही है सबसे बड़ा उपकार ...............................
                                    भावना पंवार
एक टिप्पणी भेजें